Kaushal Vikas Yojana 3.0 : हर महीने मिलेगी 8 हज़ार रुपए सैलरी, ऐसे करें पंजीयन

Kaushal Vikas Yojana 3.0 : प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना ( Pradhan Mantri Kaushal Vikas Yojana ) भारत सरकार की एक योजना है, जिसे जुलाई 2015 में शुरू किया गया था। इस पीएम कौशल विकास योजना ( PM Skill Development Scheme ) का उद्देश्य उन लोगों को प्रशिक्षण देकर रोजगार प्रदान करना है जो कम पढ़े-लिखे हैं या जिन्होंने स्कूल छोड़ दिया है। यह प्लान तीन महीने, छह महीने और एक साल के लिए है। PMKVY कोर्स पूरा करने के बाद एक सर्टिफिकेट दिया जाता है !

Kaushal Vikas Yojana 3.0

Kaushal Vikas Yojana 3.0

PM Kaushal Vikas Yojana 3.0

प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना ( Pradhan Mantri Kaushal Vikas Yojana ) के तहत 2022 तक देश में करीब 40 करोड़ लोगों को प्रशिक्षित करने का लक्ष्य रखा गया है. प्रशिक्षण के बाद स्वरोजगार के लिए कर्ज लेने की भी सुविधा है. इस PMKVY योजना का तीसरा चरण (पीएम स्किल डेवलपमेंट प्रोग्राम) अब शुरू हो गया है। PMKVY 3.0 (2020-21) का लक्ष्य आठ लाख युवाओं को प्रशिक्षित करना है, जिस पर 948.90 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय ने एक बयान में कहा है कि पीएम कौशल विकास योजना ( PM Skill Development Scheme ) 3.0 को 28 राज्यों और आठ केंद्र शासित प्रदेशों के 717 जिलों में लॉन्च किया गया है।

PM कौशल विकास योजना ( Pradhan Mantri Kaushal Vikas Yojana ) का लाभ लेने के लिए आवेदक को अपना नामांकन कराना होगा। इसके लिए pmkvyofficial.org पर जाएं और अपना नाम, पता और ईमेल जानकारी भरें। फॉर्म भरने के बाद आवेदक को वह कोर्स चुनना होगा जिसमें वह ट्रेनिंग करना चाहता है। हार्डवेयर, खाद्य प्रसंस्करण, फर्नीचर और फिटिंग, हस्तशिल्प, रत्न और आभूषण और चमड़ा तकनीक जैसे लगभग 40 तकनीकी पाठ्यक्रम दिए जाते हैं, पसंदीदा पाठ्यक्रम के अलावा, एक अतिरिक्त पाठ्यक्रम का चयन करना होता है। यह जानकारी भरने के बाद एक ट्रेनिंग सेंटर का चयन करना होगा।

Pradhan Mantri Kaushal Vikas Yojana

केंद्र सरकार की इस प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना ( Pradhan Mantri Kaushal Vikas Yojana ) में पंजीकरण के लिए कोई शुल्क नहीं देना है। इसके बदले में सरकार पुरस्कार राशि के रूप में करीब 8000 रुपये देती है। इसमें 3 महीने, 6 महीने और एक साल के लिए रजिस्ट्रेशन होता है। कोर्स पूरा करने के बाद ही PMKVY सर्टिफिकेट दिया जाएगा। यह पीएम कौशल विकास योजना ( PM Skill Development Scheme ) सर्टिफिकेट पूरे देश में मान्य होगा। ट्रेनिंग के बाद सरकार आर्थिक मदद के साथ-साथ नौकरी दिलाने में मदद करती है। रोजगार मेलों के माध्यम से सरकार ऐसे युवाओं को रोजगार दिलाने में मदद करती है।

Advertising
Advertising

8वीं पास को सॉफ्टवेयर डेवलपर बनाएगी ये सरकारी योजना

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपने आईटी ब्रांच लेकर बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल नहीं की है। भारत सरकार की प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना ( Pradhan Mantri Kaushal Vikas Yojana ) के तहत कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रम में भाग लेकर आठवीं पास युवा भी सॉफ्टवेयर डेवलपर बन सकता है। मध्य प्रदेश के होशंगाबाद में इस पीएम कौशल विकास योजना ( PM Skill Development Scheme ) कार्यक्रम के लिए आवेदन की प्रक्रिया शुरू हो गई है. इस तरह के प्रशिक्षण कार्यक्रम ( PMKVY ) या तो चल रहे हैं या भारत के लगभग सभी शहरों में शुरू होने वाले हैं।

8वीं पास ड्रॉपआउट छात्रों के लिए सरकारी स्वरोजगार योजना

इस प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना ( Pradhan Mantri Kaushal Vikas Yojana ) के तहत किसी एक सरकारी भवन की पहचान की जाती है और उसके बारे में स्थानीय समाचार पत्रों के माध्यम से जानकारी दी जाती है। जूनियर सॉफ्टवेयर डेवलपर्स को कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रम में आईटी/आईटीएस के तहत प्रशिक्षित किया जाता है। यह प्रशिक्षण स्कूल से ड्रॉपआउट छात्रों को दिया जाता है।

Pradhan Mantri Kaushal Vikas Yojana

पीएम कौशल विकास योजना ( PM Skill Development Scheme ) आवेदक की आयु 15 से 29 वर्ष के बीच होनी चाहिए। प्रशिक्षण की अवधि 6 महीने है और प्रशिक्षण पूरी तरह से नि:शुल्क है। इस दौरान विशेषज्ञों द्वारा न केवल सॉफ्टवेयर विकसित करने के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है, बल्कि छात्रों की शंकाओं को भी दूर किया जाता है। यह पता लगाने की कोशिश की जाती है कि युवाओं में किस तरह की क्षमताएं हैं और उसी के अनुसार उन्हें करियर गाइडेंस भी दिया जाता है । सभी युवा इस प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना ( Pradhan Mantri Kaushal Vikas Yojana ) में आवेदन कर सकतें है !

यह भी जानें – Vidhwa Pension Yojana Amount [ Double ] : विधवा पेंशन की राशि हुई दुगुनी, जानें अब कितनी पेंशन